मैं व्यंग्य नहीं लिखता/अमन कुमार त्यागी

मित्रों! मैं मन की बात कह रहा हूँ। मुझे व्यंग्य लिखना नहीं आता है। प्रयास करता हूँ लिखने का मगर सोचता रहता हूँ ‘क्या लिखूँ’ और मेरी ‘सोच के दायरे’ बढ़ते जाते हैं। मैं इतना अधिक सोच डालता हूँ कि कुछ भी लिखना तुच्छ ही जान पड़ता है। व्यंग्य ही क्या कुछ भी नहीं लिख […]

Translate »