फायकू/अमन कुमार त्‍यागी

1 गुनाहों की हर तरकीब मुझे आजमाने दो तुम्हारे लिये 2 जमाने भर की दुआ तुम्हें देता हूँ तुम्हारे लिये 3 सच सबके सामने बोला और पिट गया तुम्हारे लिये 4 रात दिन दिन रात करता रहा काम तुम्हारे लिये 5 यहां वहां जहां तहां खुद को ढूंढा तुम्हारे लिये 6 तुम आओ ना आओ […]

Translate »