ग़ज़ल-अग़र तुम लौट आओ तो वही ख़ुशबू बिखर जाये/-हरकीरत हीर

इक ग़ज़ल का प्रयास … मुफाईलुन मुफाईलुन मुफईलुन मुफाईलुन बह्र : हज़ज मुसम्मन सालिम ग़ज़ल ……….. अग़र तुम लौट आओ तो वही ख़ुशबू बिखर जाये खयालों में वही मीठी, हसीं मुस्कान भर जाये इशारों से, अदाओं से , निगाहों से , बहानो से किया इज़हार मैंने जो ,ज़हे सपना सँवर जाये मुझे तू माफ़ करना […]

Translate »